Press "Enter" to skip to content

डम्पिंग ग्राउंड का निर्माण कौनसी जगह पर करना चाहिए?

डम्पिंग ग्राउंड एक नई समस्या विगत कुछ वर्षों से निर्माण हुई है. डम्पिंग ग्राउंड का मतलब यह है की कचरा रखने की एक जगह. कचरा हर घर, स्कुल, कार्यालय, पंचायत, रास्तेंपर से प्राप्त होता है. स्वच्छ भारत का मिशन इसीके चलते बना हुआ है.

इसपर बेहतर एवं उमदा तरीके से कार्य आगे बढ़ रहा है. जरुरी यह है की कचरा कम हो, या कचरा कम करने की कोशिश करें. ताकी बिमारी ना फैले, वातावरण स्वच्छ हो, दुर्गंधी का प्रमाण कमी हो. इस लिए हमें पर्याप्त प्रयास करना चाहिए.

डम्पिंग ग्राउंड का निर्माण कितना जरुरी

शहरों के सामने डम्पिंग ग्राउंड एक नई समस्या निर्माण हुई है. जिसका प्रभावी माध्यम से समस्या का निपटारा करना चाहिए. तो हमें क्या करना होगा? शासन एवं प्रशासन को क्या करना होगा? की डम्पिंग ग्राउंड की समस्या ना हो. लोगों को इसके लिए अनशन या आंदोलन ना करना पडे़.

शहर या गांव के बाहर डम्पिंग ग्राउंड की व्यवस्था पंचायत, या महानगरपालिका के माध्यम से की जाती है. क्या ऐसा करना ठिक होगा? या इसके चलते कोई नई समस्या हावी हो सकती है. इसका सोच विचार हमें करना होगा.
डम्पिंग ग्राउंड शहर या गांव के बाहर हो फिर भी उसकी दुर्गंधी महसूस की जाती है. तथा कुछ क्षेत्र उसके प्रभाव में आते है.

साथ ही साथ जानवर भी डम्पिंग ग्राउंड का कचरा तहस महस करते है. पाॅलिथीन, प्लास्टिक के डिब्बे,प्लास्टिक की थैलीयां,जानवर खाने की कोशिश करते है.इससे जानवरों पर असर पड़ता है.

साथ ही साथ उस क्षेत्र के सभी लोगों के सामने बिमारी की समस्या निर्माण होती है. बच्चें भी बिमारी के शिकार होते है. इस लिए डम्पिंग ग्राउंड ऐसे क्षेत्र में निर्माण करना चाहिए की डम्पिंग ग्राउंड का स्थान गांव या शहर से काफी दुर हो. जिसका असर किसी पर भी ना पड़े.

डम्पिंग ग्राउंड कहा होना चाहिए

खेतों के आसपास अगर डम्पिंग ग्राउंड की व्यवस्था की हो, तो उसे हटाने का प्रयास पंचायत या नगरपंचायत कर्मचारी के माध्यम से करें. उन्हें बताए की यह डम्पिंग ग्राउंड की व्यवस्था कहीं और करें. ताकी खेतों के सामने कोई समस्या ना हो.

इसका कचरा हमेशा नष्ट करना चाहिए या आवश्यकता होने पर वह जला भी दें. ताकी नए सिरेसे आनेवाला कचरा वहा रख सके. गिला एवं सुखा कचरा अलग-अलग रखें ताकी डम्पिंग ग्राउंड पर आपको किसी समस्या का सामना ना करना पड़े.

बेहतर है की स्कुल, घर, कार्यालय, हाॅटेल, किसी भी जगह कचरा कम करने की कोशिश करें. लोगों को समझाए की ऐसा करना क्यों ठिक नहीं है. इससे क्या होता है यह भी उन्हें बताए.

स्वास्थ सम्बंधित समस्या हो सकती है

हाॅस्पिटल, क्लिनिक की दवाईयाँ, जिनकी एक्सपायरी डेट खत्म हुई हो. जो दवाईयाँ काम की ना हो. इंजेक्शन, सलाईन की बाॅटल्स आवश्यकता ना होने पर उसे नष्ट कर दे. या उसे डम्पिंग ग्राउंड पर भेज देने की व्यवस्था करें.

डम्पिंग ग्राउंड के क्षेत्र गांव, शहर के लिए जादा मात्रा में हो. वह अलग-अलग जगह पर हो. ताकी कचरे का ढ़ेर एक ही जगह जमा ना हो.

अपना घर, घर के आसपास की जगह हमेशा साफ रखें.ताकी कचरा कमी होते. और लोगों को परेशानी की समस्या का सामना ना करना पडे़. स्वच्छता के बारे में कोई भी चीज हलके में ना ले. हमेशा स्वच्छता के लिए अग्रेसर रहे. शासन-प्रशासन को भी इस बात के लिए खडा करें. ताकी गांव, शहर स्वच्छ एवं साफ रहे.

कोई भी चीज हम बदल नहीं सकते इस लिए हमें ही बदलना पड़ता है. और हमारे बदलाव से बाकी लोग भी बदल सकते है. इस का ध्यान हमेशा रखें. ताकी बदलाव भी हो और स्वच्छता भी हो.

देखें की डम्पिंग ग्राउंड पर जो कचरा जाता है. क्या वह सही समय पर जाता है? उसे समय पर नष्ट किया जाता है या नहीं? अगर ऐसा नहीं होता तो संबंधित कार्यालय में जाकर शिकायत दर्ज करें.

लोगो को जागरूक होने की जरुरत

हमेशा लोगों को अपने बच्चों को प्रोत्साहित करें की कचरा कम करें या साफ सफाई के लिए भी उन्हें आप प्रोत्साहित कर सकते है. अगर आप आपका गांव, शहर, नगर, कॅालनी, साफ रखते है तो वह आप तर सिमित नारखें कई ऐसे गांव है जो पर्याप्त मात्रा में अपना गांव साफ एवं स्वच्छ नहीं रखते. उन्हें हमेशा प्रोत्साहित करें.

किसी गांव या शहर में आपको स्वच्छता का अभियान चलाना है तो पंचायत या नगरपंचायत के प्रशासनिक कर्मचारी की मदद ले.

लोगों को स्वच्छता का महत्व समझाए ताकी कचरा कमी हो. डम्पिंग ग्राउंड पर कचरा कम हो. सुखा कचरा, गिला कचरा हमेशा अलग अलग जगह पर डाले.

ऐसा करने से ग्राउंड सुरक्षित रहेगा. बिमारी का प्रादुर्भाव कम होने में सहायता मिलेगी. स्वच्छ एवं सुंदर आपका गांव या शहर आपको दिखाई देगा. बच्चों की सेहत निरंतर ठिक रहेगी. वातावरण स्वच्छ एवं साफ सुधरा होगा. जिसकी सराहना सही समय पर सरकार कर सकती है.

गंदे पाणी का व्यवस्थापन ठिक से करना होगा. वह गंदा पाणी किसी और चीज के लिए आप उपयोग में ला सकते है. या शोष गड्डे में भी आप डाल सकते है. ताकी इसका इलाका भी सही मात्रा में सुरक्षित रहें. किसी भी समस्या का निपटारा आप इस माध्यम से कर सकते है. स्वच्छता का कार्य करने से आप को भी शांती मिलती है.

इस लिए ध्यान रखें डम्पिंग ग्राउंड का स्थान गांव, शहर, खेतों से दुर हो. जहाँ उसे आसानी से समाप्त किया जा सके.

एक कदम स्वच्छता की और, स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत, भी ध्यान में रखें.

– योगेश बेलोकार
एस सॉफ्ट ग्रुप इंडिया