Press "Enter" to skip to content

वायरस को कैसे क्वारंटाइन करता है एक कंप्यूटर एंटीवायरस..

​कोई भयंकर वायरस या उसकी वजह से संक्रमित फाइल को क्वारंटाइन करना क्यों जरूरी होता है, ये आज हम इस लेख में विस्तार से देखेंगे…

कोई भी वायरस की मूलभूत लक्षण क्या होते है?

एक कंप्यूटर वायरस एक प्रकार का कंप्यूटर प्रोग्राम होता है, जब हम इसे रन करते है, तब ये अन्य कंप्यूटर प्रोग्रामों को मॉडिफाई करके, अपना कोड डालकर खुद के प्रति को दोहराता है. जब यह प्रतिकृति सफल हो जाती है, तो प्रभावित क्षेत्रों के फाइल्स को कंप्यूटर वायरस से “संक्रमित” कहा जाता है.

अक्सर, जब आपका एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर किसी संक्रमण का संकेत पाता है, तो यह संदिग्ध फ़ाइल को क्वारंटाइन में रखता है. ये क्वारंटाइन आखिर होता क्या है, चलो इसे समझते है.

क्वारंटाइन क्या होता है?

एक संक्रमित फ़ाइल से निपटने का सामान्य और सबसे आसान तरीका एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर के लिए यह हो सकता है की उस संक्रमित फाइल को पूर्णतः से डिलीट किया जाये. वास्तव में, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर न केवल संक्रमित फ़ाइल को बेरहमी से हटा सकता है, बल्कि इसे निष्क्रिय भी कर सकता है. ताकि फ़ाइल का कोई भी हिस्सा आपके पीसी के स्टोरेज सिस्टम पर कहीं भी मौजूद न हो. ये एक अच्छी बात होती है, लेकिन ऐसा न करने के वजह क्या होती है?

क्वारंटाइन क्यों करते है?

क्या होगा यदि आपके एंटीवायरस ने उस फ़ाइल को जो संक्रमित नहीं हो उसे डिलीट किया. और इससे भी बदतर हालत तब होगी जब, आपको वास्तव में उस फ़ाइल की आवश्यकता आ जाये तब क्या करे? यही कारण है कि क्वारंटाइन की अवधारणा बनाई गई थी.

क्वारंटाइन प्रक्रिया कैसे होती है?

एक संक्रमित फ़ाइल को हटाया नहीं जाता है. यह संक्रमण के लक्षण दिखाता है, लेकिन जब एक संक्रमित फाइल को क्वारंटाइन किया जाता है तब आपके कंप्यूटर के अन्य फाइल्स को संक्रमित करने का कोई अवसर नहीं होता है. यह सुरक्षित प्रक्रिया है.

Status-Shayri-Questions-min

यदि फ़ाइल को ठीक किया जा सकता है और संक्रमण समाप्त हो जाता है, तो फ़ाइल को क्वारंटाइन से हटाया जा सकता है और उसे सेवा में वापस रखा जा सकता है. या, यदि फ़ाइल को गलत तरीके से संक्रमित होने के रूप में पहचाना जाता है, तो इसे क्वारंटाइन से हटाया जा सकता है और तुरंत उपयोग किया जा सकता है.

अधिकांश एंटी-वायरस प्रोग्राम में, क्वारंटाइन फाइलें आंतरिक बाइनरी प्रारूपों में संग्रहीत की जाती हैं, ऐसा करने से आपके सिस्टम में और इंफ़ेक्टर फ़ाइल के बीच कोई कनेक्शन नहीं हो सकता.

© सागर वझरकर
एस सॉफ्ट ग्रुप इंडिया