Press "Enter" to skip to content

20th August: world mosquito diwas | विश्व मच्छर दिवस

world mosquito diwas : आज हम विश्व मच्छर दिवस के बारे में अधिक जानकारी लेंगे. आप सोच रहे होंगे शायद कि हम विश्व मच्छर दिवस क्यों मना रहे हैं. जब कि यह हमारे बीच मलेरिया का संचालन करने के लिए जिम्मेदार होते हैं. खैर जो भी हो इसके बारे में हमें जागरूकता बढ़ाना ही इस दिवस का महत्व है.

ताकि हम अधिक से अधिक लोगों को सुरक्षित और संरक्षित बना सके. और साथ ही यह भी पहचानना महत्वपूर्ण है कि इन सभी जानवरों की जीवनी चक्र में एक महत्वपूर्ण भूमिका भी निभाते हैं. चाहे वह हानि रहित हो या नहीं.

Mosquito se jude kuch interesting facts

1. वैसे देखा जाए तो मच्छर ही पृथ्वी के सबसे घातक जानवर होते हैं. क्योंकि मच्छर ही पूरी दुनिया में मलेरिया, डेंगू, पीला बुखार, जीका जैसी कई जानलेवा बीमारियां फैलाते हैं. बहुत से मच्छर हार्टवर्म भी फैलाते हैं. जो आपके कुत्ते को हानि पहुंचा सकता है.


2. वैसे तो मच्छर एक थप्पड़ में ही मर जाते हैं, लेकिन एक वयस्क मच्छर 5 से 6 महीने तक जिंदा रह सकता है. या उससे कुछ ज्यादा. अधिकांश मादाएं 2 से 3 सप्ताह तक जी सकती है.


3. आपको जब मच्छर काटता है, तो वह नर नहीं हो बल्कि मादा होती है, हां यह सच है.. क्योंकि मादाओं को अपने अंडे देने के लिए प्रोटीन की आवश्यकता होती है. और उन्हें मानवीय रक्त में से ही यह प्रोटीन मिलता है. नर मच्छर तो पेड़, पौधों पर या फूलों पर ही खुश होते हैं.


4. देखा जाए तो मच्छरों की लगभग 3000 से ज्यादा प्रजातियां हैं. लेकिन इनमें से ज्यादा से ज्यादा 200 ही मनुष्य को काटने वाली प्रजातियां होती हैं.


5. मच्छरों की सभी प्रजातियां इंसानों को नहीं काटती. वे अन्य जानवरों को ही काटना पसंद करते हैं. उदाहरण के तौर पर, कुलीसेटा मेलानूरा प्रजातियों के मच्छर विशेष रुप से पक्षियों को ही काटते हैं.


6. मच्छर लगभग सभी उड़ने वाले कीड़ों से बहुत धीरे यानी कि लगभग 1 से 1.5 मील प्रति घंटा गति से उड़ते हैं.


7. मच्छर अपने पंखों को एक सेकंड में 300 से 600 बार फड़ फड़फड़ाता है. इसीलिए शायद कभी-कभी उसके काटने से पहले आपको उसकी चिढ़ाने वाली गुनगुनाने जैसी आवाज सुनाई देती है.


8. सभी मच्छरों को अंडे देने के लिए पानी की जरूरत होती है. लेकिन वह पानी एक जगह पर स्थिर होना चाहिये. इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि, बारिश के मौसम में किसी भी फेंकी हुई वस्तु में पानी जमा ना होने दें.


9. अधिकांश मच्छर लगभग 2 से 3 मील दूरी तक ही उड़ सकते हैं.


10. मच्छरों को मनुष्य और अन्य जानवरों से पैदा हुआ कार्बन डाइऑक्साइड यानी कि CO2 का 75 फीट दूरी से ही पता लग जाता है. वह हवा में कार्बन डाइऑक्साइड के प्रति बहुत संवेदनशील होते हैं.


11. वैसे तो मच्छरों को मारने के लिए फॉगर मशीन जैसे कई तरीके आप इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन सबसे आसान और प्रभावी तरीका तो यही है कि आप mosquito repellant लगाकर उन से बचें.


12. जब मच्छर काटता है, तो उसकी सूंड से वो हमारी त्वचा पर लार छोड़ता है. जो उसके सूंड को त्वचा में घुसने के लिए चिकनाई देती है. इसलिए मच्छर के काटने पर खारिश या खुजली हो सकती है. लेकिन हर मच्छर की लार से आपको एलर्जी नहीं होती.


13. मनुष्य को दर्द देने वाले मच्छरों से विज्ञान को फायदा ही हुआ है. वैज्ञानिकों ने उनकी सूंड के डिजाइन से प्रेरित होकर ही कम दर्द देने वाली हाइपोडर्मिक का डिजाइन किया है.

world mosquito diwas ke bare me adhik jaankari

विश्व मच्छर दिवस इसके बारे में जब भी हम सोचते हैं. तो यह दिवस मनुष्य मलेरिया और मच्छर इन तीनों चीजों के बीच कड़ी पैदा करता है. मलेरिया से संबंधित खोज करने का सम्मान बनाने के लिए भी हम यह दिवस मना सकते हैं. यह कुछ ऐसा है जब स्वास्थ्य उद्योग में बहुत काफी बदल आ चुके हैं. और इन्हें सुनिश्चित करने के लिए के मनुष्य की हमेशा रक्षा ही हम कर सकें. इसीलिए कई खोज जैसे कि वैक्सीन और अधिक दवाइयां भी निर्माण की जाती है.

मलेरिया एक ऐसी बीमारी है, जो मच्छरों की शरीर में मलेरिया के परजीवी होते हैं, उनके कारण मानव में फैलती है. इस के योग्य इलाज और रोकथाम से ही बचा जा सकता है. फिर भी दुख की बात यह है कि दुनियाभर में लाखों लोगों को मलेरिया के कारण अपने जीवन को खतरा पैदा हुआ है. यह बहुत ही ध्यान रखने की बात है कि सभी मच्छर मलेरिया को प्रसारित नहीं करते. केवल संक्रमित मादा जो की अनोखी देश मच्छर की मादा होती है. बस वही इसका संचरण कर सकती है.

आप सोच रहे होंगे कि मलेरिया मच्छरों के द्वारा कैसे फैलता है. तो आपको बता दें कि के जब भी कोई मच्छर मलेरिया के परजीवी को अपने रक्त में प्रवाहित कर लेता है. या फिर किसी ऐसे व्यक्ति को काटता है. जिसको पहले से ही मलेरिया हो और उसके बाद किसी निरोगी व्यक्ति को जब यह भी मच्छर काटता है, तो उसे मलेरिया होने की संभावनाएं बहुत अधिक होती है. यह मच्छर आमतौर पर शाम और रात के समय ही अधिक सक्रिय होते हैं.

आमतौर पर पूरे दिन भर के दौरान ही नहीं काटते हैं. हालांकि आपको यह सुनिश्चित करना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है, कि आपका शरीर हर समय संरक्षित रहे.

अब तक के नए आंकड़े बताते हैं कि लगभग 435000 लोग हर दिन मलेरिया से मरते हैं. इतना ही नहीं बल्कि दुनिया भर में हर साल मलेरिया के लगभग 219 मिलीयन मामलों को दर्ज किया जाता है. यह बहुत बड़े आंकड़े है ना. बहुत सारे लोगों को यह पता ही नहीं होता कि यह समस्या कितनी गंभीर होती है. इसीलिए कई क्षेत्र में इसके बारे में जागरूकता नहीं आई है.

औसतन मलेरिया 100 से अधिक देशों में पाया जा सकता है. यह ऐसे देश हैं जहां पर आमतौर पर उष्णकटिबंधीय क्षेत्र में यह देश आते हैं. फिर भी दुनिया भर की 70% मलेरिया का प्रभाव सिर्फ 11 देशों में ही केंद्रित है. जिसमें भारत और अफ्रीकी महाद्वीप आते हैं. यदि किसी ऐसे देश की यात्रा करने जा रहे हैं. जिस बीमारी से खुद को बचाने के लिए कदम उठाए. आपको हमेशा मच्छरदानी चाहिए होता है. और साथ ही भी ले सकते है. यहां आप अपनी यात्रा से पहले अपने डॉक्टर के साथ अपॉइंटमेंट ले. और निश्चित करें आप यात्रा करने के लिए बिल्कुल तैयार हैं.

world mosquito diwas ka itihas

विश्व मच्छर दिवस पहली बार 1897 में स्थापित किया गया था. जब सर रोनाल्ड रॉस द्वारा मच्छरों और मलेरिया के संचरण के बीच की कड़ी को खोजा गया था. इसका उद्देश्य मलेरिया के कई कारणों के बीच जागरूकता बढ़ाना और इसे कैसे रोका जा सकता है. इसके बारे में लोगों को बताना ही था साथ ही मलेरिया के इलाज में अनुसंधान के लिए धन जुटाना भी होता है. इसलिए सर रोनाल्ड रॉस और उनके बाद आने वाले सभी वैज्ञानिकों के काम के लिए हमें उन्हें सलाम जरूर करना चाहिए.

London School of Hygiene & Tropical Medicine  इसमें भी प्रदर्शन और पार्टियों के साथ मनाया जाता है. इसमें मनोरंजन और सूचित करने के लिए भी समारोह में मलेरिया के दाम में उड़ान भरने पर लोगों को विरोध करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं. गरीब समुदायों के लिए मच्छरदानी प्रदान करने के लिए नेट के ट्विटर अभियानों को भी आप शुरू कर सकते हैं. ताकि लोगों की आप अच्छी तरह से मदद कर सके.

world mosquito diwas kaise manaye 

विश्व मच्छर दिवस पर आप गरीब व्यक्तियों को मच्छरों की जाली या फिर नेट प्रदान करते हुए इसे अच्छी तरह से मना सकते हैं. इससे बेहतर अच्छा हो सर और मौका आपको कभी नहीं मिलेगा. या फिर आप इसे मनाने के लिए किसी फंड को भी अपना धन दान कर सकते हो. साथ ही आप अपने परिवार से और अपने दोस्तों से बातें बताकर उन्हें जानकारी दे सकते हो, कि विश्व बचत दिवस किस तरह से मनाना चाहिए.

और मच्छरों के बारे में जागरूकता भी आपदा कर सकती हो. लोगों को आप मच्छरों के बारे में सावधानियां कैसी बरतनी है इसके बारे में विस्तृत जानकारी दें. खतरे के स्थानों पर यात्रा करने के समय या फिर अक्षरों के अनुसंधान में की गई उपलब्धियों के बारे में बताकर आप उनके साथ जश्न मना सकते हैं. कई अलग अलग तरीके के दान में शुरू किए जाते हैं. जिनमें कई तरह के अलग-अलग बीमारियों से निपटने की मदद करने में आप उन्हें सहायता कर सकते हैं.

जिसमें मलेरिया नो मोर भी सिद्ध होता है. यह दुनिया NamibiaBotswana, Gana और Nigeria जैसे देशों में इस मलेरिया की रोकथाम के लिए दे सकते हैं.

विश्व मच्छर दिवस पर आधारित हमारा यह विस्तृत लेख पढ़कर अगर आपने भी इनके बारे में बहुत अच्छी तरह से जानकारी जुटा ली हो. और आपको अपने दोस्तों के साथ इन्हें साझा करने में मदद मिली हो, तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करते हुए हमें जरूर बताइएगा. हमारा पूरा लेख पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

Worth-to-Share

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *