Press "Enter" to skip to content

26th August: women’s equality diwas | महिला समानता दिवस

women’s equality diwas : महिला समानता दिवस हर साल 26 अगस्त इस दिन मनाया जाता है. इसी दिन अमेरिकी संविधान में महिलाओं को वोट करने अधिकार तौर पर निर्णय लिया था. और तबसे यह अधिकार अमेरिकी संविधान का हिस्सा बन गया. एक तरह से ये अमेरिका की साथ-साथ पूरी दुनिया के महिलाओं के लिए बहुत गर्व के साथ मनाने का दिन है.

इसका मतलब यह है कि इस दिवस के बनने के पहले अमरीका में किसी भी महिला को कोई भी वोट करने का अधिकार नहीं था. एक तरह से उनके अभिमत की कोई कीमत नहीं की जाती थी. महिलाओं को पुरुषों से कम स्थान पर माना जाता था. यह दिन महिलाओं के अधिकारों के लिए संघर्ष के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ लेता है.

women’s equality diwas ke bare me rochak jankari

1.   महिला समानता दिवस को संयुक्त राज्य अमेरिका ने 1920 के दशक में अपनाया. जहां उन्होंने अपने अमरीकी संविधान की 19 व संशोधन को लागू किया. और इसे संविधान का हिस्सा बना दिया. इसी अधिनियम ने संघीय सरकार और बाकी राज्यों को उनके लोगों को किसी भी लिंग के आधार पर मतदान के अधिकार के रूप में से मना कर दिया.

2.   इस निर्णय ने अमेरिकी संविधान में किए गए 19 वें संशोधन का एक तरह से आदर सम्मान किया.

3.   अमेरिकी संविधान में किसी भी नियम की पुष्टि करने के लिए तीन चौथाई राज्यों के नाम से देने की आवश्यकता होती है. इस निर्णय जोड़ने के लिए भी 36 राज्यों की आवश्यकता थी. और 18 अगस्त 1920 को टेनेंसी नामक राज्य इस निर्णय को पुष्टि करने वाला अंतिम राज्य बन गया था. क्योंकि टेनेसी में ही सबसे लंबा और जटिल आंदोलन चला था.

4.   हालांकि अमेरिकी कांग्रेस ने 1971 में महिला समानता दिवस को मान्यता दे दी थी. लेकिन इसे संसद में पूरी तरह से पारित होने के लिए संख्याओं का बनाने के लिए और इसके बारे में घोषणा करने के लिए बहुत समय जाना पड़ा. लेकिन फिर भी लोगों को ये जश्न मनाने से रोक नहीं सका.

5.   इसलिए उसकी आधिकारिक तौर पर मान्यता प्राप्त करने के लिए न्यूयॉर्क शहर में 50,000 से भी ज्यादा महिलाओं को हड़ताल करनी पड़ी थी. उन्होंने न्यूयॉर्क शहर में मार्च भी निकाला था.

6.   इसके संशोधन के पारित होने से पहले कोई भी महिला मतदान नहीं कर सकती थी. लेकिन उन्हें अपने ऑफिस चलाने की कोई भी तकनीकी रूप से रोक नहीं पा सकता था. और इसी वजह से महिलाएं अभिमत का अधिकार मिलने से पहले भी ऑफिस चलाती थी.

7.    1916 में मोंटाना की 2 जिलों का प्रतिनिधित्व करने के लिए जीननेट पिकरिंग रैंकिन इस महिला को चुना गया था और इस तरह जिननेट 1916 में कांग्रेस की चुनकर आने वाली पहली महिला बन गई थी.

women’s equality diwas ke bare me Henry Ford ka tweet :   

women’s equality diwas ka itihas

महिला समानता दिवस को 1973 में जाकर मान्यता प्राप्त हुई. संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति ने इस कार्य की घोषणा की थी. वैसे तो इसी 1920 में ही चुना गया था. जब बेनब्रिज कोल्बी ने इस दिवस की घोषणा की और उस पर हस्ताक्षर किए थे. और इन महिलाओं को मतदान का संवैधानिक अधिकार प्राप्त करा दिया था. सभी महिलाओं के लिए बहुत ही बड़ी बात थी. 1920 में जब महिलाओं ने नागरिकों द्वारा अमेरिका के इतिहास में बड़ा आंदोलन छेड़ा था. क्योंकि समाज में महिलाओं की हिन स्थिति को कोई समझ नहीं सकता था. उस समय के समाज को बस यही मानना था कि महिलाएं सुंदर होती है, लेकिन उनमें रोजगार के लिए गंभीरता नहीं होती. लेकिन आप देख सकते है कि पिछले शताब्दी में महिलाओं ने इन विचारों को गलत साबित कर दिया है.
आज महिलाओं की समानता में केवल उनके मत को देखा नहीं रही बल्कि उससे भी कहीं अधिक बढ़ गई है. इक्वलिटी नाउ और वुमनकाइंड वर्ल्ड वाइड जैसे कई संगठनों ने महिलाओं को शिक्षा और रोजगार के समान अवसर प्रदान करने के लिए बहुत काम किया है. साथ ही महिलाओं के प्रति बढ़ती हुई हिंसा और भेदभाव के खिलाफ समाज से हर वक्त दो हाथ किए है.

women’s equality diwas kaise manaye

आप कई तरीकों से महिला समानता दिवस मना सकते हैं. सबसे पहले तो आपको इस दिवस पर उन महिलाओं को श्रद्धांजलि अर्पित करनी चाहिए, जिन्होंने दिवस की योगदान के लिए आपने प्राण न्योछावर कर दिए. अपनी जान कुर्बान कर दी. उनके बारे में आप और अधिक जानकारी जानने के लिए ढूंढ सकते हैं. साथ ही आप अपने दोस्त एवं परिवार के सदस्यों के साथ ऑनलाइन जानकारी को और भी लोगों तक पहुंचा सकते हैं. ताकि इस दिवस के बारे में सभी के मन में एक जागरूकता उत्पन्न कर सकें. साथ ही आप सोशल मीडिया पर मतदान किस प्रकार होना चाहिए इसके बारे में कुछ पोस्ट हो या फिर किसी लेख के बारे में मेसेज को दोस्तों के साथ साझा कर सकते हैं. ताकि सभी लोगों को यह बात पता चलेगी की महिला समानता दिवस किस तरह से मनाया जाता है. 

हमें आशा है कि हमारा यह महिला समानता दिवस पर लेख पढ़कर आपके मन में महिलाओं के प्रति गर्व की भावना उत्पन्न हो गई होगी. अगर ऐसा है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करते हुए हमें जरूर बताएं!

साथ ही आप हमारा महिलाओं के सशक्तिकरण पर आधारित लेख भी पढ़ सकते हैं : 
women empowerment kyo jaruri hai | महिला सशक्तिकरण के फायदे


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

Worth-to-Share

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *