Press "Enter" to skip to content

३ अप्रैल: वॉक टू वर्क दिवस (Walk to Work Day)

आपके पास किसी गाड़ी या रेल यातायात की सुविधा के उपलब्ध होते हुए भी अपने काम
पर चलते हुए जाना भला किसको पसंद होगा? हम जानते हैं कि सभी को अपने बिस्तर पर
लेटे लेेटे दो-तीन बार स्नूज़ बटन दबाना और फिरसे चद्दर लेके सो जाना ही सबसे
पसंदीदा काम है, लेकिन यह आपकी स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं है. आइये आज इसी बात
से लेकर हो रही चर्चा में हम दुनिया में मनायें जाने वाले वॉक टू वर्क डे के बारे में जाने.

वॉक टू वर्क डे आपकी दिनचर्या को बदलने का एक मौका देता है. बढ़ती सजगता के इस युग में स्वास्थ्य के लिहाज़ से रोजाना पैदल चलना हमारे स्वास्थ्य को बहुत सकारात्मक तरीकेसे प्रभावित करता है, और यही फिर एक बार महसूस करना ही आज के दिन का महत्व है.

Walk to Work डे का हमारे जीवन में महत्त्व

अमेरिकी स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग द्वारा 2004 में वॉक टू वर्क डे का मुद्दा उठाया गया. ताकि लोगों के मन में इस दिन का अवसर जानकार पैदल चलकर काम पर जाने की इच्छा स्वाभाविक हो जाए और लोग बड़ी मात्रा में यह दिन मनाने के लिए सामने आये.
यह दिन हमें हमारे आसपास के माहौल से और अपितु पर्यावरण से जुड़ने में बहुत ही महत्वपूर्ण
तरीकेसे मदद करता है.
वॉक टू वर्क डे का महत्व सिर्फ हमारे शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर आधारित नहीं है, बल्कि पूरी दुनिया के स्वास्थ्य के लिए बनाया गया एक उत्साह से भरपूर दिन, यही इसकी सही पहचान है.
पैदल चलकर काम पर जाना व्यक्ति को आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है. काम करने के लिए चलना यह आवश्यक और अतिरिक्त समय पर आपको जगाने में मदद करता है.

वॉक टू वर्क डे कैसे मनाएं

सुबह के अलार्म को जल्दी से सेट करें, नाश्ते को भरपूर मात्रा ले, जो आप रास्ते में चलते वक्त ऊर्जा प्रदान करेगा, कार की चाबियाँ अपनी जेब में ही रहने दे और अपने मार्ग की ओर चल दीजिये. यह आपके वॉक टू वर्क डे के अनुभव का पहला चरण हैं.

Status-Shayri-Questions-min

काम पर चलकर जाना हमारे खुद के जीवन में और हमारे साथियों के जीवन में भी बहुत फर्क ला सकता है.
यह दिवस कार्बन उत्सर्जन कम करने में भी मददगार साबित हो सकता है. बस इसके लिए आपको यह करना पड़ेगा की आप अपने किसी सहयोगी की गाडी या सरकारी बस, रेल का भी जहातक हो सके, प्रयोग ना करें तो बेहतर होगा. तब जाकर ही हम कह सकते है की इस दिन को सही ढंग से और कारीगर तरीके से मनाया गया है.

हमारा यह दिनविशेष पर आधारित लेख पूरा पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद! हम आपके लिए रोज ऐसही अच्छे लेख लेकर आते है. अगर आपको यह लेख पसंद आता है तो फेसबुक और व्हाट्सएप पर अपने दोस्तों को इसे फॉरवर्ड करना ना भूले. साथ ही हमारी वेबसाइट को रोजाना भेंट दे

© संतोष साळवे
एस सॉफ्ट ग्रुप इंडिया