Press "Enter" to skip to content

1 Sept: tofu diwas | टोफू दिवस dinvishesh

tofu diwas :  आज 1 सितंबर पर टोफू दिवस मनाने के बारे में जानेंगे. राष्ट्रीय टोफू दिवस टोफू बनाने के लिए UK का एक पारंपरिक दिन है.  जो हर साल बड़े जश्न के साथ मनाया जाता है. दुनिया के सबसे बहुमुखी खाद्य पदार्थों में से टोफू एक होता है. जिसमें प्रोटीन की भरपूर मात्रा होती है. अन्य सारे पदार्थों के जैसे टोफू भी ढेर सारे लाभ भी प्रदान करता है. हाल ही के दिनों में टोफू पश्चिमी देशों में लोकप्रिय हुआ है.

इसके कई नए उत्पादन सामने आए हैं. जैसे टोफू दही, टोफू शीट और जमाए हुए टोफू हमें अन्य भी सोयाबीन पर आधारित पदों की मित्र को भूलना नहीं चाहिए. जोकि बहुमुखी और स्वादिष्ट होते हैं. अभी सोया पर आधारित उत्पाद पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं. प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, लिपिड और एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होते हैं.

What is tofu?  |  टोफू आखिर क्या होता है?

टोफू पर सदियों से पारंपरिक पद्धति से तैयार किया गया एक व्यंजन होता है. मरियम वेबस्टर डिक्शनरी के अनुसार टोफू बहुत ही नर्म, कस्टर्ड जैसा खाद्य पदार्थ होता है. यह सूखे सोयाबीन से बनता है. और बाद में पानी से भिगो कर, कुचलकर एक ठोस और तरल सोया दूध से बनाया जाता है. जो कि उबला हुआ दूध होता है.

देखा जाए तो टोफू शब्द का सच्चा अर्थ “खराब सोयाबीन” ऐसा होता है. और टोफू का निर्माण चीन में किया गया था, जो की 10 वीं शताब्दी में हुआ था. आपको पता ही होगा कि चीन में सोयाबीन बहुत व्यापक रूप से उपयुक्त होता है. और इसी वजह से टोफू का उत्पादन वहां पर बहुत ही ज्यादा होता है. टोफू बहुत जल्द ही उन परिवारों के लिए बहुत ही किफायती विकल्प बन गया है. जो मांस नहीं खाना चाहते थे.

इसकी कीमत के कारण ही ना केवल टोफू व्यापक रूप से सेवन किया गया था. बल्कि उसके चीनी द्वारा भी स्वास्थ्य लाभ की बहुत से कारण होते हैं. वास्तव में आधुनिक विज्ञान में टोफू के लाभों का अध्ययन करने के लिए बहुत पहले ही चीन को टोफू के सेवन को एक लंबे और बहुत ही स्वस्थ जीवन के साथ जोड़ दिया है.

tofu diwas ka itihas 

टोफू दिवस को पूर्व एशियाई आहार पर बहुत ज्यादा असर हुआ है. इसका दूध और पनीर के समान बहुत ज्यादा महत्व होता है. टोफू को शुरुआत में 900 ईसवी में जापान में महत्व मिला था. टोफू अर्थ होता है बिन दही. चीनी और जापानी में कई नामों से पुकारा गया है इसका अर्थ होता है. ईसवी 1800 तक यह नहीं था. जब कूकबुक के रूपी बोलने वाले नवाबों के आस पास आया था. अगर दिनों के बाद आज अभी के शाकाहारी लोगों के लिए एक प्रतिष्ठित भोजन और विकल्प बना था. तो फिर दिवस का उद्देश्य लंबी और जटिल इतिहास को प्रदर्शित करना है.

जो यह बात दर्शाता है कि इसका हर जगह हर संस्कृतियों पर कैसा प्रभाव पड़ा है. इस दिवस को पूरे विश्व भर में बहुमुखी और पौष्टिक खाद्य पदार्थ के रूप में माना जाता है. इसे कई तरीकों से तैयार किया जा सकता है. इसकी रचना हर किसी को पसंद आती है. जब आप इसका स्वाद चखते हैं, तो ही आपको उसके बारे में पता चल जाएगा. उसको खाने के लिए लोग अपने रास्ते से कहीं भी घूमने जा सकते हैं. आप किसी भी डिश के साथ में टोफू जोड़कर अपने भोजन के स्वाद को और भी बढ़ा सकते हैं.

tofu diwas kaise manaye 

टोफू दिवस पर टोफू उपयोग व्यंजनों में किया जा सकता है. इसलिए इस दिन आप को सबसे अच्छा काम भी करना है. जो टोफू से जुड़े व्यंजन देखकर इसे आजमा सकते हैं. इसके साथ आप टिन, टिक्का मसाला और शरबत बनाने की विधि आजमा सकते हैं. यदि आप वास्तव में टोफू करना चाहते हैं, तो दुनिया के पूर्वी हिस्से में कुछ स्वादिष्ट व्यंजनों के कोशिश करने के लिए आप जापान को जा सकते हैं.

यदि आप अपने घर के करीब ही कहीं ढूंढ रहे होंगे. तो आपको तो फूलों के व्यंजनों को साथ लेकर पार्टी की मेजबानी करनी ही चाहिए. और आप इसे जरूर मना सकते हैं. आपको अपने दोस्त एवं परिवार के साथ सब को आमंत्रित करना चाहिए. और इस टोफू की पेशकश के लाभों में अभी कुछ जानने की मदद करें. साथ ही आप #tofuday का ट्वीट करते हुए इस दिवस को मना सकते है.

हमारा टोफू दिवस पर लिखा हुआ यह लेख अगर आपको पता पसंद आया हो, और इसे खाने की आपकी इच्छा जागृत हो गई हो, तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करते हुए हमें जरूर बताइएगा!


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

Worth-to-Share

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *