Press "Enter" to skip to content

28th August: rainbow bridge remembrance diwas | रेनबो ब्रिज स्मरण दिवस

rainbow bridge remembrance diwas : आज 28 अगस्त को हम रेनबो ब्रिज स्मरण दिवस मनाया जा रहे हैं. आप जब भी किसी रेनबो अर्थात इंद्रधनुष को देखते हैं, तो आपके मन में भी वो इंद्रधनुष के सात रंग उभर कर आते हैं. आपके दिल को भी बहुत खुश करते हैं. इंद्रधनुष के सभी रंग मिलकर हर्षोल्लास भरा माहौल तैयार कर देते हैं.  इंद्रधनुष कहता है कि हमें अपने जीवन में ऐसे ही हर तरह के रंग भर देना चाहिए. तभी हमारी जिंदगी रंग बिरंगी हो सकती हैं.

हमारे बचपन में इंद्रधनुष के रंग दिखते थे, तो हमें उसे हाथ में लेने की इच्छा होती थी. आज भी हम सभी परिवार के सदस्यों के साथ जब यह दिवस मनाते हैं. इंद्रधनुष हमें यही कहता है कि हमारे दिल को जो भी अब तक दर्द हुआ है और उसे जो भी नुकसान का एहसास हुआ है. उसे हमें गुजरे हुए कल के साथ छोड़ देना चाहिए. और आने वाले नई बातों को सीखना चाहिए. हम जो रेनबो ब्रिज स्मरण दिवस बनाने जा रहे हैं.

वह किसी और के लिए नहीं बल्कि आपके पसंदीदा और सबसे प्यारे दोस्त आपके पालतू जानवर की याद में मनाने का दिवस है. आपका जो भी पालतू जानवर है, चाहे वो बिल्ली हो या कुत्ता हो. अगर वह आप कर छोड़ कर चला गया हो, तो आप भी इस रेनबो ब्रिज स्मरण दिवस के द्वारा उसे याद कर सकते हैं.

who have started rainbow bridge remembrance diwas | रेनबो ब्रिज स्मरण दिवस की शुरुआत किसने की

क्या आपने कभी सोचा है कि रेनबो ब्रिज स्मरण दिवस की स्थापना किसने की? अगर आपको पता नहीं होगा तो हम आपको बताना चाहते हैं कि इस दिवस की शुरुआत Deborah Barnes इस लेखिका और zee और zoey’s cat की blogger ने अपनी Ragdoll बिल्ली Mr. Jazz को श्रद्धांजलि के रूप में उन्होंने 23 अगस्त 2013 को अलविदा किया था. उन्होंने उसकी याद यात्रा में कई किताबें उसके पांव के निशान लोगों के साथ साझा किए थे. उन्हें उनकी किताब के लिए उनके पाठकों की प्रतिक्रिया बहुत ही बढ़िया थी.

आपकी दुनिया के अन्य लोगों के लिए भी अपने ही सम्मान के रूप में कुछ बनाने का और देने का फैसला किया था. जिन लोगों ने अपने अपने पालतू जानवरों की बाद में उन्हें बहुत सारा प्यार किया था. और उसके बाद वह खो दिया था. इन लोगों को कुछ अच्छा सुलझाने के लिए और बहुत सारे दिन की बातें बताने के लिए ही उन्होंने रेनबो ब्रिज स्मरण दिवस को मनाना शुरू कर दिया था.

rainbow bridge remembrance diwas ka itihas

रेनबो ब्रिज स्मरण दिवस पहली बार 2013 में देवरा बांध के द्वारा अपनी बिल्ली की याद में मनाया गया था. उन्होंने आपकी बिल्ली को खो दिया था और उसी के सम्मान के लिए ही उन्होंने यह दिन मनाने की बात की थी. वो अपने बिल्ली से बहुत ज्यादा प्यार करती थी. लेकिन उन्हें उसे खोना पड़ा था. उन्होंने उसके फर और उसकी यादों को अपने साथ संजोए हुए रखा था. जो एक पालतू बिल्ली थी.

उसे जितना आरामदायक लगना चाहिए, उतने ही अच्छे उन्होंने सोशल मीडिया के साइट पर पोस्ट भी निकली थी. उन्होंने एक तस्वीर एक कविता लिखी थी. और साथ ही उनकी कुछ पसंदीदा स्मृतियां भी साझा की थी. आप भी इसी तरह आपने जो भी पालतू जानवर है. उनके सम्मान के लिए सोशल मीडिया के साइट पर वीडियो फोटो या कुछ एक विशेष ब्लॉग पोस्ट भी लिख सकते हैं. या किसी विशेष आउटडोर स्मारक बनाने के जैसा करने तरीका भी ढूंढ सकते हैं.

rainbow bridge remembrance diwas kaise manaye

आप रेनबो ब्रिज स्मरण दिवस  को अपने खोए हुए पालतू जानवर को समर्पित कर सकते हैं. इस दिवस पर आप उसकी याद में उसके साथ बिताए हुए पलों को याद कर सकते हैं. उसको मनाने को यही अच्छा सबसे तरीका है कि आपने गुजरे हुए पालतू जानवर के साथ अपनी पूरी जिंदगी बताइए और उससे इस दिवस पर याद करने के लिए आपको कोई डिजिटल मेमोरी भी बना सकते हैं. ताकि दुनिया भी उसे हमेशा के लिए याद रख सके. हमारा पालतू जानवर हमारे जीवन का एक ऐसा महत्वपूर्ण अंग होता है. जो आपको हमेशा के लिए याद रखने योग्य हो.

आप चाहे तो इसे आप अपनी डिजिटल मीडिया पर अर्थात सोशल मीडिया पर पोस्ट भी कर सकते हैं. या फिर ऑनलाइन ब्लॉग भी लिख सकते हैं. आपको अगर उसे अच्छी तरह से याद रखना है, तो आप अपने घर के पास उसके लिए कोई स्मारक भी बना सकते हैं. रेनबो ब्रिज स्मरण दिवस आपके पिछले काफी जानवर के लिए सम्मान के लिए आप कुछ समय बताने के लिए बिताने का आपको बहुत अनुस्मारक करने का एक मौका देता है.

अगर हमारा रेनबो ब्रिज स्मरण दिवस पर लिखा हुआ लेख आपको अच्छा लगा हो और उसे मनाने के लिए आपको कारण मिल गया हो, तो निचे comment box में comment करते हुए हमें जरूर बताइयेगा!


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

Worth-to-Share

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *