Press "Enter" to skip to content

13 Feb 2021: radio day | रेडियो दिवस

radio day : दोस्तों आज 13 फरवरी के दिन हम सब radio day | रेडियो दिवस मनाने जा रहे हैं. आपको पता होगा कि सबसे पहली बार 2010 में स्पेन में radio day प्रस्तावित किया गया था. और इसी के चलते 2011 में दुनिया भर में प्रसारण के समर्थन के लिए यूनेस्को के द्वारा सभी राज्यों के समर्थन प्राप्त करने के बाद इस दिवस का स्वीकार किया गया था.

यूं तो आपको पता ही होगा कि रेडियो दिवस के बारे में बात करना हम सभी के जीवन में एक आशा और उत्साह से भरा वातावरण तैयार करता है. इस दिवस पर हम आपको यही बात बताना चाहते हैं कि आप चाहे कोई काम कर रहे हो या फिर कहीं घूमने जा रहे हो. आप इस दिवस पर radio को तो जरूर सुन सकते हो. क्योंकि यही ही एक ऐसा माध्यम होता है जो आपको अपने पुराने या फिर नए दोनों तरीके की गाने से वाकिफ कराता है.

हम आपको रेडियो की एक विशेषता बताना चाहते हैं. जो आप दूसरे किसी भी गाने की एप्लीकेशन या फिर किसी दूसरे माध्यम से पूरी नहीं कर सकते हैं. और वह विशेषता यह होती है कि radio पर आप अपने पसंदीदा गाना तो नहीं लगा सकते हैं. लेकिन आप जो भी गाना सुनते हैं वह आपको जरूर पसंद आ सकता है. या फिर उस गाने के बाद जो गाना आने वाला है उसके बारे में आपके मन में उत्सुकता और अधिक ज्यादा बढ़ सकती है. और जिंदगी जीने की भी कुछ ऐसी ही कला होती है.

जब आप किसी अच्छे दिन के बारे में बात करते हैं तो वह आपको बहुत पसंद आने लगता है. लेकिन अगर कोई बुरा दिन हो तो वह खत्म होने के आसार कुछ ज्यादा होते हैं. और उस दिवस के बाद बुरे दिवस के बाद अच्छे दिन आने की संभावना ही आपको जीवन जीने के लिए प्रेरित करती है.

radio day ka itihas

radio day | रेडियो दिवस पर हम आपको इसके इतिहास के बारे में जानकारी देना चाहेंगे. रेडियो के बारे में आपको पता ही होगा कि इसकी उत्पत्ति 100 साल पहले ही हुई है. लेकिन इतना पुराना इतिहास होने के बावजूद भी आज भी यह माध्यम हमारे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण अंग बना हुआ है. क्योंकि सामाजिक हो या फिर राजनीतिक सूचनाओं को सभी लोगों तक पहुंचाने में radio का ही सबसे बड़ा हाथ रहता है.

और इसी के साथ जब बात पूरी दुनिया में किसी शिक्षा या फिर किसी ईद को बताने की होती है तब रेडियो का कोई जवाब नहीं होता. और यह सब भूमिकाएं radio बखूबी निभाते आ रहा है. इसका उपयोग छोटे बच्चों से लेकर युवाओं और बूढ़ों तक किसी विचार मंथन को पहुंचाने के लिए बड़ी आसानी से किया जा सकता है. क्योंकि आपको पता होगा कि यह माध्यम आज तक किसी भी तरह की आपदा फिर चाहे वह प्राकृतिक आपदा हो या फिर मानव निर्मित हो.

उसने लोगों की चर्चाएं एवं किसी भी तरह की मदद को और साथ ही पत्रकार लोगों की रिपोर्ट लोगों तक पहुंचाने में बहुत मददगार साबित रहा है. और साथ ही लोगों की जानें बचाने के लिए और सच्चे हालातों को लोगों तक पहुंचाने के लिए रेडियो से अच्छा माध्यम आज तक कोई नहीं रहा है.

और इसकी बीच हम आपको बताना चाहते हैं कि पहला आधिकारिक radio day को 2012 में मनाया गया. पूरी दुनिया में एक समावेशी निर्माण के लिए लोगों तक पहुंचाने वाली शक्ति के रूप में इसे देखा जा सकता है. लेकिन यह सब होने के बावजूद भी और आज भी इसके बारे में बहस होती रहती है कि आखिर radio की खोज किसने लगाई है.

कई इतिहासकार लोगों का यह मानना है कि इसकी खोज गूग्लीमो मार्कोनी इन्होंने की थी. लेकिन इसी के साथ कई लोग यह मानते हैं कि इसकी की खोज निकोला टेस्ला ने की थी. World War 1st मैं और उससे पहले रेडियो सिग्नल्स का उपयोग समंदर में जहाजों से संपर्क करने के लिए किया जाता था. लेकिन पहले विश्व युद्ध के बाद लोगों ने अपने घर पर भी radio खरीदना शुरू कर दिया था.

और इसी के चलते 1920 के आखिर तक अमेरिका में 100 मिलियन से ज्यादा रेडियो इस्तेमाल किए जाने लगे थे. उस वक्त एक रेडियो की लागत लगभग $150 तक आती थी. लेकिन आज उसके लिए $20 भी काफी है.

radio day kaise manaye

radio day | रेडियो दिवस पर हम आपको इस दिवस को कैसे मनाना है इसके बारे में जानकारी देना चाहते हैं. आजकल किसी भी चीज के बारे में जानकारी लेना या फिर उसके बारे में पढ़ना इंटरनेट की वजह से बहुत आसान हो गया है. लेकिन फिर भी रेडियो दिवस पर आप किसी अच्छे चैनल को गलत करते हुए उस पर आए समाचार जरूर सुने.

साथ ही आप अपने घर परिवार में जो बच्चे हैं उन्हें अपने समय की रेडियो की कहानियों के बारे में बताएं. और साथ ही अगर आप अपने दोस्तों एवं परिवार वालों के साथ इस दिवस पर भी सोशल मीडिया पर इमेजेस के द्वारा या फिर पोस्ट के द्वारा साझा करना चाहते हैं तो आप को #radioday को जरूर फॉलो करें.

इसी के साथ आप Ssoft Group INDIA पुरस्कृत हमारा Web Radio भी जरूर सुने. हमें यकीन है कि इसे सुनकर आपको बहुत ज्यादा खुशी महसूस होगी. हम आपको इसकी विशेषता बताना चाहेंगे. इस वेब रेडियो के लिए आपको किसी भी तरह से गानों की कोई प्लेलिस्ट तैयार करने की बिल्कुल जरूरत नहीं पड़ेगी. और इसमें जो भी गाने बजेंगे, वह 24 * 7 चलते रहेंगे. इस रेडियो पर किसी भी तरह से कोई विज्ञापन या एडवर्टाइजमेंट नहीं चलाया जाता है. इसी वजह से यह Web Radio आज तक हजारों लोगों की पसंद बन चुका है. और इसी बात का हमें गर्व है.

हमारा यह रेडियो दिवस पर आधारित स्पेशल लेख अगर आपको पसंद आया हो और आपने भी हमारे वेब रेडियो को सुनते हुए इस दिवस का जश्न मनाने का निश्चय कर लिया हो, तो हमें कमेंट सेक्शन में यह जरूर सूचित कीजिएगा.


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

radio day

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *