Press "Enter" to skip to content

9 Sept: quit diwas | मौन दिवस dinvishesh

quit diwas : दोस्तों 9 सितंबर को हम quit diwas मनाने जा रहे हैं. आज हम हर जगह शोर ही शोर देखते हैं. चाहे वो ट्रेन में हो, कार्यालय में हो, स्कूल में हो या फिर घर में भी हो. अब हर जगह भीड़ ही भीड़ होती है. और इस वजह से हम शांत नहीं रह पाते. हम शोर की वजह से इससे जीवन में दूर नहीं रह सकते.

और कभी-कभी यह तो जीवन में सबसे ज्यादा हो जाता है. हम जानते हैं की शांत रहना हमारे शरीर और मन दोनों के लिए बहुत अच्छा और आवश्यक बात होती है. लेकिन आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में और इस दुनिया में हम वास्तविक शांतिपूर्ण का अनुभव नहीं कर सकते. और इसी कारण से हमें मौनदिवस के महत्व को समझना है.

और लोगों को भी उसे बताना है. हम आज जो भी बनाई गई चीज देखते हैं वह सबसे पहले मन में ही तो तैयार होती है. बस आपके विचार ही आपके मौन की नींव से आते हैं. मौन से ही आपके शब्द भी निकलते हैं. आपका बहुत सारा खाली को नदी से ऊपर का है. लेकिन सारी नई नई रचनात्मक अदाओं के लिए आपको शांत रहकर विचार करना पड़ता है. और तभी आप कुछ नई चीज तैयार कर सकते हो.

जैसा की वेन डायर ने भी कहा है कि हम हर दिन टीवी, रेडियो या फिर दोस्त और परिवार के साथ ही घिरे होते हैं. हमें खुद को मौन रखने का बहुत कम अवसर मिल पाता है. और इस अवसर पर हमें शांत रहकर सोच विचार और चिंतन करना अच्छा होता है. बस हमें इस काम को करने का एक मौका मिलना चाहिए.

आप शांत रह कर अपने दिल की और दिमाग की बातचीत को करने दे. और इसके लिए थोड़ा समय दें. इसी वजह से हमें मौन दिवस का महत्व पता होना चाहिए.

quit diwas ka itihas 

हमें शांत रहने और मौन का महत्व समझाने के लिए ही क्विट दिवस की स्थापना की गई है. उत्सव के दौरान आपको केवल बात ना करने के लिए ही उत्साहित नहीं किया जाता. बल्कि आप को शांति के महत्व भी समझाया जाता है. साथ ही आप संवाद ना करने की शैली भी अपने अंदर विकसित कर सकते हैं.

हम अपनी आवाज में क्या बात है. और वास्तव में दूसरों के साथ क्या हमारे सक्रिय बातचीत के सुनना पसंद करते हैं. हमारे पास कुछ लोगों के अजीब तरीके से बातचीत करने की तरीके होते हैं. इस मौन दिवस पर हम अपने आप को ढाल कर अपने आसपास की दुनिया को संलग्न करने की अनुमति देते हैं. जो कि शब्दों की दीवार होती है. हम इस दिवस का उपयोग कर सकते हैं. और हमें इसलिए उसका उपयोग अच्छी तरह से करना ही चाहिए.

भारत में मौन दिवस का बहुत ही अच्छा उपयोग किया जाता है. यहां पर मेडिटेशन करते हुए हम खुद के समय का बहुत अच्छा उपयोग कर सकते हैं. इसको ही विपश्यना कहां जाता है. जिसका अर्थ होता है कि ‘चीजों को उसी तरह से देखना जैसे वह वास्तव में होती है.’ और यह प्राचीन बौद्ध प्रथाओं से संबंधित है. 

क्विट दिवस अर्थात मौन दिवस को इस विपश्यना के सिद्धांत से लागू करने के लिए हमें और अधिक स्पष्टता की जरूरत होती है. जहां हम शांति और मौन से अपने जीवन में आनंद ला सकते हैं. जिसके जीवन के बारे में आपके दिमाग में एक ही बात आती होगी. जो है कि लंबे समय तक अपने मौखिक मौन को कैसे संभाले. लेकिन हम आपको यह बात जरूर बताना चाहेंगे कि मौन दिवस पर आप किसी भी तरह से खुद को शांत रखना है.

quit diwas kaise manaye

मौन दिवस मनाने का सबसे अच्छा तरीका और क्या हो सकता है. इस दिन आप अपने आप को शांत कर ले. और कही बैठ जाए या फिर कोई किताब पढ़ें यदि घर पर रहकर मौन आपके लिए सुहाना नहीं है. तो आप किसी फूलों के बगीचे में जा सकते हो. यहां पर आप घूमते हुए फूलों की महक भी ले सकते हैं.

साथ ही अपने मन को भटकने से और भी शांति पा सकते हैं. आप अन्य लोगों से भी बात कहने के लिए एक बोर्ड साथ में ले कर जाईये. जिसमें लिखा होगा कि ‘मैं एक दिन मौन में बिता रहा हूं.’ और आप लोगों को मैसेज भी कर सकते हैं. ताकि आप लोगों को बता सके कि आप आज के दिन नहीं बोल रहे हैं. तो तैयार हो जाइए शांति का अद्भुत एहसास करने के लिए.

आपको ये बात पता है कि शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की शांति आपकी जिंदगी के लिए बहुत अच्छी होती है. साथ ही अध्ययनों से भी ये बात सामने आयी है कि शांत रहते हुए आप जो समय लेते है, उससे भी आप पर सकारात्मक प्रभाव होता है. आपका रक्तचाप भी मेंटेन रह सकता है. साथ ही आपके हृदय की गति भी सामान्य रह सकती है.

ऐसे व्यस्त समय में लोग अधिक तनाव से पीड़ित रहते हैं. अक्सर हमे भी अपने जीवन में अवांछित शोर की निरंतर आक्रमण से ही बहुत बेहाल बना दिया है. शोर से आप इसका बहुत ही बड़ा शिकार हो सकते हैं. और इस वजह से आप अपने दोस्तों के साथ घूमने के लिए किसी अभयारण्य में भी जा सकते हैं. ताकि आप खुद का तनाव का स्तर कम कर सकें.

हमारा मौन दिवस पर आधारित यह लेख बहुत पसंद आ गया हो और आपने भी एक दिन का मौन रखने की ठान ली हो, तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करते हुए हमें बताना ना भूलें..!


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

Worth-to-Share

One Comment

  1. kalpesh kalpesh

    जी हाँ, आपका लेख पढ़कर मैं भी मौन धारण करना चाहूँगा
    Good job 👍👍

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *