Press "Enter" to skip to content

17th Oct: international day for the eradication of poverty | गरीबी उन्मूलन के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवस

international day for the eradication of poverty : दोस्तों आज 17 अक्टूबर के दिन हम international day for the eradication of poverty | गरीबी उन्मूलन के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाने जा रहे हैं. आपको पता होगा कि गरीबी के कई चेहरे होते हैं फिर चाहे अफ्रीका या फिर भारत में भूखी बच्चे हो या कहीं रोती हुई मां हो. लगभग हर तरफ यह दृश्य सामान्य होते हैं.

आपको यह भी ज्ञात होगा कि गरीबी को चरम सीमा तक ले जाने के लिए उदाहरण संयुक्त राष्ट्र ने गरीबी की विकास के लक्ष्यों में इसे घोषित कर दिया है. हमें भी इस बात को अच्छी तरह से समझ लेना होगा कि गरीबी यह हमारे देश को मिला हुआ एक साथ ही है. हर रोज देखते हो कि गरीब दिन-ब-दिन और भी गरीब होते हुए उसके हालात बद से बदतर होते जाते हैं. लेकिन उससे उल्टा किसी भी आमिर का उदाहरण ले लीजिए.

अमीर हमेशा और भी अमीर होते रहता है. उसके पास पहले ही पैसे की कोई कमी नहीं होती है और वह ज्यादा कमाने की कृष्णा लेकर ही जीता रहता है. इस बात से आप कभी इंकार नहीं कर सकते हैं कि वे उस गरीबी को लेकर एक सामाजिक संघर्ष पर उतर गए हैं. शहरों के प्रभाव के साथ-साथ आप छोटे गांव में भी इसी बात को साधारण तरीके से समुदायों को प्रभावित करते हुए देख सकते हो.

हालांकि आपने देखा होगा कि हाल ही के दशकों में बढ़ती हुई जागरूकता के साथ इस गरीबी के उन्मूलन को और उसके साथ संघर्ष करने वालों को सहायता में मदद करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. आइए दोस्तों हम भी इन गरीबों के दिए कुछ मदद करते हुए उनकी गरीबी का उन्मूलन करने के लिए कुछ कदम बढ़ाए और अपनी जो भी मदद हो सके वह उन्हें करें.


international day for the eradication of poverty ka itihas

गरीबी उन्मूलन के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवस पर हमें इस बात का अवलोकन करना होगा कि इसे मनाना कब शुरू किया गया था. हम आपको बता दें कि इस दिवस को सबसे पहले 17 अक्टूबर 1987 को मनाया गया था. उस दिन शनिवार के दिन पेरिस फ्रांस में एक साथ कई लाख लोग एक साथ आए थे.

हम आपको बताना चाहते हैं कि मानव अधिकारों की घोषणा पर संयुक्त राष्ट्र द्वारा 1948 में हस्ताक्षर किए थे. इसी के कारण वश अत्यधिक गरीबी भूख और हिंसा के कारण कई लोग पीड़ित है और उनका सम्मान होने की वजह से ही इस दिवस को मनाना शुरू किया था. जैसे कि संयुक्त राष्ट्र ने घोषणा की थी उनके मानव अधिकारों की घोषणा पर हस्ताक्षर करने की वजह से सभी लोगों को न्याय मिल सकेगा.

आपको पता होगा कि 1992 में एक प्रस्ताव लाया गया था जिसमें महासभा ने इस दिवस की आधिकारिक रूप में घोषित किया गया था. और इसी वजह से गरीबी और विनाश के उन्मूलन के संबंध में घटनाओं को बढ़ावा दिया जाएगा.

international day for the eradication of poverty kaise manaye

गरीबी उन्मूलन के लिए अंतरराष्ट्रीय दिवस पर हम इस बात को विशेष रूप से गतिविधियों के लिए अलग रख सकते हैं जो गरीबी के उन्मूलन से संबंधित होती हैं. हमें इस दिवस के निरीक्षण का अच्छा तरीका ढूंढना होगा जिस वजह से हम इसे मना सके. आप इसके लिए अपने शहर या फिर गांव कस्बे में किसी संगठित कार्यक्रम को गठन कर सकती हैं.

और साथ ही वहां पर यह पता लगा सकते हैं कि गरीबी उन्मूलन के लिए इस दिवस के अवलोकन को किस तरह से मनाया जा सकता है. यदि आप अपने आधिकारिक निजी क्षेत्र में कोई भी कार्यक्रम आयोजित कर रहे हो तो उसने गरीबों को अवश्य शामिल करें. इन में आप किसी भी घर के लोगों को भी शामिल करते हुए खुद उनमें प्रेरणा भर सकते हैं. इसी के साथ आपको स्वयं को सेवा देने में जुटाना पड़ेगा ताकि लोग आप पर भरोसा कर सके.

जो संभवत गरीबी उन्मूलन के लिए इस महत्त्व से जो भी अवगत है उनके लिए विशेष उत्सव मनाने का दिन है. इन में सबसे महत्वपूर्ण बात यह होती है कि यह दिन गरीबी में रहने वाले लोगों को अपने ही जीवन में आए संघर्ष को पहचानने का दिवस होता है. साथ ही आपको यह अपने प्रयासों और गरीबी मिटाने के लिए काम करने वाले व्यक्ति को प्रोत्साहित करने का भी एक अवसर देता है. इसी के साथ आप #dayforeradicationofpoverty को टैग करते हुए सोशल मीडिया पर भी इस दिवस को अच्छी तरह से मना सकते हैं.


हमारा यह गरीबी उन्मूलन के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस पर लिखा हुआ लेख अगर आपको पसंद आया हो और आपने भी किसी गरीब को मदद करने की ठान ली हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करते हुए हमें जरूर बताएं.


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

Worth-to-Share

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *