२९ अप्रैल: अंतरराष्ट्रीय नृत्य दिवस (International Dance Day)

नृत्य की कला मानव जाति के लिए ज्ञात मनोरंजन और सामुदायिक गतिविधि के शुरुआती और सबसे लंबे समय तक चलने वाले अनेक रूपों में से एक है. वैसे तो इसका लाखों लोगों द्वारा दैनिक रूप से अभ्यास किया जाता है;

लेकिन अंतरराष्ट्रीय नृत्य दिवस यह एक ऐसा दिन है, जिस दिन हर किसी को नृत्य के सुखद क्षण में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया जा सकता है.नृत्य एक ऐसी अंतिम गतिविधि है जो विनाश रोक सकती है, साथ ही अवरोध रोककर नए लोगों से मिला सकती है और साथ ही इंसान के शारीरिक स्वास्थ्य को भी बढ़ावा देती है. आइए इस Dance दिवस पर हम भी इसे अपना जुनून बना लें और इसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें.

अंतरराष्ट्रीय नृत्य दिवस का इतिहास

अंतरराष्ट्रीय नृत्य दिवस की कला का कम से कम 9000 साल प्राचीन इतिहास भारतीय चित्रों से पता लगाया जा सकता है. साथ ही कई अन्य प्राचीन संस्कृतियों में भी औपचारिक नृत्य की छवियां देखी जा सकती है यह कला अब तक के मानवीय जीवन मेंं एक केंद्रीय घटक बनकर उभर आई है. इसमें आदिवासी नृत्य स लेकर पेशेवर नित्य मनोरंजन  करने वालों तक सभी ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया है.नृत्य जैसे मनोरंजन के कला की बड़ी बात यह है कि इसकी प्राकृतिक लय या नृत्य क्षमताओं की परवाह किए बिना हर कोई इसका आनंद उठा सकता है. अंतरराष्ट्रीय नृत्य दिवस का उद्देश्य यह है कि इस नृत्य का जश्न पूरी दुनिया मना सकें.वैसे तो नृत्य का इतिहास हजारों सालों से चला आ रहा है, लेकिन अधिकारिक तौर पर Dance दिवस समारोह 1982 में शुरू किया गया. फ्लैशडेंस की अगले वर्ष सिल्वरस्क्रीन पर हिट होने के बाद यह कार्यक्रम बेहतर तरीके से शुरू नहीं हो सका. आखिरकार दुनियाभर में लाखों लोगों ने सिनेमाघरों को छोड़ने के बाद इस कला को बहुत ज्यादा प्यार दिया.

अंतरराष्ट्रीय नृत्य दिवस कैसे मनाएं

हर साल Dance दिवस पर आप कोई अच्छा समारोह आयोजित करें और अतिथि सम्मान का संदेश भी दें. इसमें झुंबा डांस, अमेरिकन रिदम, लैटिन, बैले और देसी डांस का आनंद लिया जा सकता है. साथ ही सोलो डांस, युगल डांस, छोटे समूह डांस या फिर विशाल सामूहिक डांस द्वारा भी इसका आयोजन किया जा सकता है. Dance दिवस अपने स्वतंत्र और और प्रतिबंधित प्रकृति का जश्न मनाने के साथ-साथ अपने समूह में काम करने और सभी मतभेदों को भूल कर, साथ आकर एकजुट दिखाने का दिवस है.इस दिन आप खुद भी कोई Dance क्लासेस जॉइन कर अलग-अलग Dance आविष्कार सीख सकते हैं. यह हमें सिर्फ अपने शारीरिक स्वास्थ्य पर ध्यान देने के लिए ही मदद नहीं करता; बल्कि पूरे सामाजिक और सांस्कृतिक विकास में भी इससे मदद मिलती है.

हमारा यह दिनविशेष पर आधारित लेख पूरा पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद! हम आपके लिए रोज ऐसेही अच्छे लेख लेकर आते है. अगर आपको यह लेख पसंद आता है तो फेसबुक और व्हाट्सएप पर अपने दोस्तों को इसे फॉरवर्ड करना ना भूले. साथ ही हमारी वेबसाइट को रोजाना भेंट दे.

इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे. WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

Worth-to-Share
Sending
User Review
0 (0 votes)

Subscribe to Channel
Shayari Sukun
Follow us on Pinterest