Press "Enter" to skip to content

१ अप्रैल: आशा दिवस (Day Of Hope)

हम अक्सर देखते है की हर साल दुनिया भर में हजारो- लाखों बच्चे लोगों के दुर्व्यवहारऔर उपेक्षा के शिकार होते हैं, और लाखों लोग इस दुरुपयोग से बचने से मदद करने के लिए निवारक सहायता की प्राप्ति करते हैं.
संयुक्तिक देशोंने मिलकर चलाया हुआ चाइल्ड हेल्प एक ऐसा संगठन है जो बच्चों की मदद करने के लिए समर्पित है. यह ऐसे बच्चों की मदद करता है, जो उपेक्षा और दुर्व्यवहार से पीड़ित परिस्थितियों से घिरे हैं. आशा दिवस अक़्सर इन सामने न आनेवाले शिकार बच्चों के आँकड़ों को याद करने और अपने समुदाय और दुनिया भर में उनकी मदद करने के लिए एक दिन है.

आशा दिवस का इतिहास

शारीरिक हिंसा से लेकर यौन शोषण तक दुर्व्यवहार कई रूपों में हो सकता है, सरासर की अपेक्षा जहां आवश्यक चिकित्सक देखभाल और भोजन को रोक दिया जाता है.

यवोन फेडरसन ने चाइल्ड हेल्प के सह-संस्थापक और अध्यक्ष के रूप में स्थापित किया और आज भी उसी क्षमता से काम कर रहे हैं. यह संगठन नए अध्यायों, सहायक संस्थाओं की स्थापना में मदद और अपने पड़ोस और विदेशी देशों में चाइल्ड हेल्प में मदद करने पर ध्यान केंद्रित करती है.

यह संस्था मानवीय सहायता के लिए समर्पित कई गैर-मुनाफे के कार्य के लिए सक्रिय है. इस संगठन को नेशनल चिल्ड्रन्स एलायंस के चिल्ड्रन अवार्ड और लिविंग लिगेसी अवार्ड जैसे 100 से अधिक पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चूका हैं. इस कार्य के लिए यह संस्था नोबेल शांति पुरस्कार के लिए भी कई बार नामांकित हुई है.

यवोन के साथ सारा ओ’मेरा, सीईओ और अध्यक्ष के रूप में काम करती हैं. वह संगठन को मुख्य प्रवक्ता के रूप में विकसित करने में जुटी रहती है. आर्थिक विकास और पूरे संगठन के लिए निगरानी बनाने में मदद करती है. दुनिया भर में बच्चों के साथ दुर्व्यवहार रोकने के लिए जो काम किया है, उसके लिए उन्हें अपने साथी यवोन की तरह 100 से अधिक पुरस्कार मिले हैं. चाइल्ड हेल्प का इतिहास 50 वर्षों से अधिक पुराना है, जो दुनिया भर के लाखों बच्चों की मदद करने के अपने प्रयासों और कार्यक्रमों की ओर अग्रेसर है.

चाइल्ड हेल्प संगठन की शुरुआत

दुनिया के अनाथ बच्चों की मदद के लिए यह संगठन स्थापित किया गया था, जिसका उद्देश्य 60 के दशक में अमेरिकी सैनिकों और जापानी महिलाओं के बच्चों की सहायता करने तक सिमित था. उसके बाद इस संगठन का नाम बदलकर चिल्ड्रन विलेज यूएसए कर दिया गया, जो अंततः चाइल्ड हेल्प यूएसए बन गया. चाइल्ड हेल्प आज बाल शोषण निरोधक संगठनों की सूचि में सबसे पहली श्रेणी में आता है.

Day of Hope

इस संगठन ने एक हॉटलाइन बनाया है, जिसका “चाइल्ड हेल्प नेशनल चाइल्ड एब्यूज हॉटलाइन” ऐसा नाम रखा गया है, जो पेशेवर अभिनेताओं द्वारा सभी संकटग्रस्त बच्चोंके लिए हमेशा कार्यरत है.

हॉटलाइन पर बच्चों के माता-पिता, अभिभावकों और उन लोगों के कॉल का जवाब दिया जाता है, जो मानते हैं कि उन्होंने अपने पड़ोस में दुर्व्यवहार की स्थिति देखी है.

चाइल्ड हेल्प संगठन के कार्य

यह संगठन हजारों आपातकालीन सेवा, सामाजिक और समर्थन संसाधनों के साथ नेटवर्किंग के माध्यम से पीड़ितों के लिए संपर्क जानकारी प्रदान करने में सक्षम हैं. यह सब कार्य गैर-मुनाफे के रूप में पूर्ण करता है. वे उन लोगों के लिए उपचार करते हैं जो बाल दुर्व्यवहार के कई तरीकों से पीड़ित हैं. उनमें सबसे आगे एक अवासीय क्षेत्रों में स्थित उपचार केंद्र हैं, उसे चिल्ड्रन्स विलेज नाम से जाना जाता है. वे उन बच्चों के लिए उपचार कार्यक्रम प्रदान करते हैं जिन्हें अदालत द्वारा अधिग्रहित किया जाता है. इन केंद्रों पर चिकित्सक, सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा कुछ सबसे गंभीर रूप से दुर्व्यवहार और उपेक्षित बच्चों की सेवा की जाती हैं.

आशा दिवस कैसे मनाये

आप बच्चे के शोषण के बारे में जागरूकता बढ़ाने में मदद कर के अपने स्थानीय जगहों पर स्वेच्छा से इस दिवस को मना सकते है. इसलिए हमेशा सतर्क रहें. जहां आपको संदेह है कि यहाँ दुर्व्यवहार हो सकता है, उन स्थितियों में हॉटलाइन से संपर्क करें. जो बाल शोषण के आघात से जूझ रहे हैं, उन लोगों के लिए आप आशा के प्रतीक के रूप में सेवा कर सकते हैं. आज चाइल्ड एब्यूज़ एक विश्वव्यापी समस्या बन गया है, जिसपर अंतरराष्ट्रीय संगठनों के प्रयासों से सभी निर्दोष पीड़ितों की सुरक्षा में मदद मिल सकती है.

हमारा यह लेख पूरा पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद! हम आपके लिए रोज ऐसही अच्छे लेख लेकर आते है. अगर आपको यह लेख पसंद आता है तो इसे फेसबुक और व्हाट्सएप पर अपने दोस्तों को फॉरवर्ड करना ना भूले. साथ ही हमारी वेबसाइट को रोजाना भेंट दे.

© संतोष साळवे 
एस सॉफ्ट ग्रुप इंडिया

Comments are closed.