12 Feb 2021: darwin day | डार्विन दिवस

darwin day

darwin day : आज 12 फरवरी के दिन हम सब darwin day | डार्विन दिवस मनाएंगे. आपने देखा होगा कि चार्ल्स डार्विन के जीवन और उसके कार्य के सम्मान के लिए यह छुट्टी का दिवस मनाया जाता है. और इसी वजह से हम इस दिवस को विज्ञान और मानवता के जश्न के दिन के रूप में देख सकते हैं. आपको पता होगा कि चार्ल्स डार्विन का जन्म 1809 में हुआ था.

 उन्होंने मानव की जन्म के साथ-साथ उसके विकास का सिद्धांत के प्राकृतिक चयन द्वारा किया था. उन्होंने 1859 में प्रकाशित ओरिजिन ऑफ स्पीशीज इस किताब में यह बताया है कि हमारे पृथ्वी पर सभी वर्तमान जीवन ग्रुप एक ही पूर्वज की तरफ से आए हैं. और साथ ही खुशी और पौधों जैसे कई तरह से उनकी विधता एवं उनका प्रवास उनके विलुप्त होने की आशंका है इन सभी का कारण म्यूटेशन ही होता है. इस दिवस को विकासवाद के सिद्धांत के तहत वैज्ञानिक समुदाय और उनके सिद्धांत के व्यापक रूप के तौर पर इंकार किया गया है. 

हालांकि हम आपको बताना चाहते हैं यह डार्विन दिवस उनकी मृत्यु के बाद से ही मनाया जाने लगा है. चार्ल्स डार्विन की मृत्यु 1882 में हो गई थी. हम साथ ही यह भी जानना दिलचस्प है कि डॉ रॉबर्ट स्टीफेंस प्रो मस्सीमो पिगलियुकि, अमांडा चेस्वर्थ इन्होंने 2000 में डार्विन दिवस के कार्यक्रम को बनाया था. इसके बाद इस विज्ञान की शिक्षा के कार्यक्रम को भंवर लाभकारी संगठनों ने बड़े अच्छे पैमाने पर सेलिब्रेशन का नाम दिया. और इसी के चलते हम देख सकते हैं कि आज का यह डार्विन दिवस समारोह सारी दुनिया में आयोजित किया जाता है.


darwin day ka itihas

darwin day | डार्विन दिवस और हम इस दिवस के बारे में अधिक इतिहास जानेंगे. आज डार्विन दिवस समारोह 12 फरवरी के दिन पूरी दुनिया में हर जगह मनाया जाता है. चार्ल्स डार्विन की जन्म की सालगिरह के मौके पर 12 फरवरी दिवस मनाया जाता है. और साथ ही इस दिवस पर विज्ञान एवं मानवता का जश्न मनाने का एक और सर ही हमें मिलता है. 

आपने देखा होगा कि चार्ल्स डार्विन के प्राकृतिक चयन के विकासवाद के सिद्धांत ने इतिहास को ही बदल दिया है. उनकी किताब the origin of species अर्थात प्रजाति की उत्पत्ति इस किताब में उन्होंने यह दावा किया है. उन्होंने यह कहा है कि हमारी दुनिया में जो भी वर्तमान जीवन रूप है वह सभी हमारे एक ही पूर्व से आए हुए हैं. 1909 में डार्विन की इस सबसे बड़े योगदान के लिए दुनिया भर के 400 से ज्यादा वैज्ञानिक आए थे. इन सभी वैज्ञानिकों ने कैंब्रिज में और बाकी गणमान्य व्यक्तियों के साथ इस दिवस को मनाने का सुनहरा अवसर प्राप्त किया.

 और उसी वक्त अमेरिका के विज्ञान एवं प्राकृतिक इतिहास की अकादमी द्वारा डार्विन की 100 वी जयंती मनाई जा रही थी. और साथ ही 2 जून 1909 दिन रॉयल सोसाइटी ने डार्विन उत्सव भी आयोजित किया था. और इसी के तहत 1980 से मैसाचुसेट्स में अमेरिका के सालाना डार्लिंग फेस्टिवल आयोजित किया जाता है. और 2005 में इन्होंने ही us patent and trademark कार्यालय के डार्विन फेस्टिवल के लिए सेवा चिन्ह को पंजीकृत किया है.


darwin day kaise manaye

darwin day | डार्विन दिवस पर हम इसलिए उसको कैसे बनाना है इसके बारे में जानकारी लेंगे. आपको इस दिवस को मनाने का बहुत अच्छा बेहतरीन तरीका यही है कि आप खुद ही डार्विन के सिद्धांत का अध्ययन जरूर करें. और अगर हो सके तो आप डार्विन की महान किताब ओरिजिन ऑफ स्पीशीज को जरूर एक बार पढ़े. अगर आप अपने आसपास के किसी स्थानीय ऐतिहासिक संग्रहालय पर जा सके तो वहां आप डायनासोर जैसे बड़े प्राणी की कंकाल को जरूर देखिए और उसकी जानकारी जरूर ले.

 आपके मन में इस दिवस के प्राकृतिक चयन के लिए अवधारणाएं बनी हुई तो आप इसके बारे में अपने दोस्त एवं साथियों से जरूर बात करें. और जिन लोगों को इस विषय के बारे में अधिक ज्ञान है आप उनसे लोग मिलकर इसके बारे में बात करें और उनसे अधिक से अधिक ज्ञान लेने की कोशिश करें. 

आपने डार्विन की कुछ अवधारणा है तो जरूर सुने होगी जो कि सर्वाइवल ऑफ दी फिटेस्ट के आधार को मानती है. इस अवधारणा का अर्थ यही होता है कि जो भी जीव खुद को जीवित रखना चाहता है उसे अपने ही जाति की बाकी जीवो के साथ लड़ना ही होगा. और साथ ही लड़कर उसे अपने जींस को साबित करते हुए चलना होगा. और इसी के साथ कई तरह की परिस्थितियों को एक निश्चित समय के आधार पर जीवित रहने के लिए कहती है. 

आप पर्यावरण की किसी भी सजीव की प्रजाति को अवधारणा में ढाल कर उस पर अभ्यास कर सकते हैं. साथ ही अगर आप किस दिवस के बारे में अधिक जानकारी सोशल मीडिया पर साझा करना चाहते हैं तो आप #darwinday हैश टैग को जरूर फॉलो करें.

हमारा यह डार्विन दिवस पर आधारित लेख अगर आपको पसंद आया हो और आपने भी इस डार्विन के सिद्धांत के बारे में अधिक जानकारी लेते हुए इसे मनाने का निश्चय कर लिया हो, तो हमें कमेंट बॉक्स में जरूर सूचित करें.


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

darwin day

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *