Press "Enter" to skip to content

24 July: cousins divas | कजिन्स दिवस

cousins divas : आपके दादा जी और दादी के घर पर आपने बिताए हुए उस मजेदार समय को याद करें. जब आपका पूरा परिवार, आपके कजिन्स एक साथ होते थे. कजिन्स के साथ आपकी खूब खेल मस्ती होती थी. सभी लोग एक दूसरे से मिलते थे प्यार और खुशियां बांटते थे.

साथी अपने अपने चचेरे भाइयों या कजिन्स के साथ खेलने में भी अनगिनत घंटे बिताए थे. जबकि आपके घर के बड़े लोगों ने राजनीति और दूसरी चर्चा छिड़ी थी. आपको यह बातें याद तो होगी ना?

हमें से बहुत लोगों ने अपने कजिन्स अर्थात चचेरे भाई-बहनों के साथ अपनी जिंदगी बिताई. उनके साथ बड़े हुए. उनके साथ गर्मी और सर्दी का समय बिताते गए. धीरे-धीरे जीवन में साथ चले. 
फिर आप साथ में ही कॉलेज गए. उसके बाद किसी अच्छे जॉब के लिए आप किसी अलग राज्य में चले गए. और बाद में धीरे-धीरे आपका एक दूसरे का साथ कम हो गया.

हमने अधिकांश जीवन में किसी भी समय अपने कजिन्स या चचेरे भाइयों को सबसे ज्यादा प्यार भी किया है. और उन्हें अच्छे दोस्त भी बनाया था. तभी कजिन्स दिवस का जन्म हुआ था.

कजिन्स दिवसपर आप कहीं भी हो इसे आप मना सकते हैं. अगर आप अपने चचेरे भाइयों के पास रहते हैं तो उनके साथ घूमने के लिए कुछ समय जरूर निकालें. वो भी निश्चित रूप से आपके बारे में भी यही बात सोचते होंगे.


cousins divas ke bare me adhik jankari

चचेरे भाई या कजिन्स ये वो लोग होते हैं जो बचपन से आपके साथ हैं. आपके हर वक्त साथ रहने वाले दोस्त होते हैं. आप उनके साथ हंसना, रूठना, मनाना, खेलना, कूदना यह सारी बातें करते थे.

पारिवारिक समारोहों में आप अपने चचेरे भाइयों के साथ रहना ही पसंद करते थे. वे आपके बचपन के सहयोगी बनते थे. 
खासकर जब आपका कोई दूध भाई या बहन नहीं थी. जब भी राखी का त्यौहार आता था तो आप की चचेरी बहन आपको राखी पहनाती थी.

चचेरे भाई एक दूसरे के प्रति वफादार होते है. जीवन में किसी दोस्त का होना जरूरी होता है. यह कमी आपका चचेरा भाई पूरी कर सकता है. आप अपने चचेरे भाई के साथ शांत और खुश महसूस कर सकते हैं.


cousins divas ka itihas

इस अनौपचारिक कजिन्स दिवस की उत्पत्ति तो वैसे अज्ञात है. लेकिन इसके अस्तित्व का कारण स्पष्ट है. अपने चचेरे भाइयों के स्नेह और मजबूत बचपन के बंधन को फिर से एक बार स्थापित करने के लिए यह वर्ष का एक दिन होता है.

कजिन्स अर्थात चचेरे भाई एक ऐसा शब्द है. जो आमतौर पर हमारे ऐसे रिश्ते को दर्शाता है. जिसका परिवार में ओहोदा सबसे ज्यादा और गरीबी में पूर्वजों का नाता होता है.
हालांकि बहुत से परिवारों में दूसरे चचेरे भाई और तीसरे चचेरे भाई भी होते हैं जिन्हें वे सबसे करीबी मानते हैं.


cousins divas kaise manaye

वैसे तो कजिन्स दिवस मनाने का सबसे अच्छा और खास तरीका यही है कि आप अपने चचेरे भाई से पूरे दिन भर का समय निकालकर मिले. और उसे बताएं कि वह आपके लिए कितना मायने रखता है.
आप दोपहर के भोजन पर भी उसे बुला सकते हैं. या फिर कहीं कॉकटेल पर भी जा सकते हैं.

आप के बचपन के दिनों को याद करते हुए एक साथ खेल कूद और मौज मस्ती करते हुए भी आप कजिन्स दिवस का सबसे ज्यादा आनंद उठा सकते हैं. 
हालांकि हम जानते हैं कि यह हमेशा संभव नहीं होगा. खासकर उन चचेरे भाइयों के लिए जो एक दूसरे के पास नहीं रहते हैं.

यदि आप अपने जैसे भी भाई के पास नहीं रहते हैं. तो भी आप उन्हें उनके लिए एक अच्छा सा संदेश भेज सकते हैं. आप उनके बारे में क्या सोच रहे हैं. 
आप अपने चचेरे भाई को अपना प्यार दिखाने के लिए पाठ संदेश या सोशल मीडिया का भी उपयोग कर सकते हैं.

shayarisukun.com इस वेबसाइट पर दी हुई कोई अच्छी सी, बेहतरीन शायरी सुना कर उसे अपने दिल में पल रहे प्यार के बारे में भी इत्तिला करा सकते हैं. ताकि उसके दिल में भी आपके लिए उतना ही प्यार जागे, जितना कि आप महसूस करते हैं. और हर cousins divas पर आपकी दोस्ती यूं ही जीवन भर बनी रहे, यही दुआ आप एक दूसरे से हमेशा करते रहें.


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

Worth-to-Share

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *