Press "Enter" to skip to content

25 June: color TV divas (कलर टीवी दिवस) दिनविशेष

color TV divas : कई सालों से एक नवाचार चलता आ रहा है. जो हमने से हर कोई हर दिन करता है. 
चाहे हम अपने कंप्यूटर पर बैठे हो, अपने हाथ में फोन लेकर कोई गेम खेल रहे हो या फिर अपने परिवार के साथ टेलीविजन अर्थात टीवी देख रहे हो. हम रंगों की एक उज्ज्वल परेड में हमेशा डूबे रहते हैं.

रंगीन टीवी दिवस याद दिलाता है कि यह हमेशा से ऐसा नहीं रहा है. जब टेलीविजन पहली बार पेश किया गया था, तो हमारे पास काले और सफेद चित्रों के अलावा कोई भी नहीं दिखता था. वास्तव में वह ग्रे कलर की छाया थी.

color TV divas ka itihas

लेकिन 1951 में एक ऐसी घटना सामने आई जिसने प्रसारण की इस मनोरंजन भविष्य को हमेशा के लिए बदल दिया. 
पहला वाणिज्य प्रसारण एक किस्म का शो था. जिसने कई मनोरंजनकर्ता थे. जबकि यह प्रसारण के उन लोगों के लिए उपलब्ध था, जिनके घर रंगीन टेलीविजन अर्थात कलर टीवी होती थी. यह सब कुछ बदलने के लिए पहला कदम था.
19वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में टीवी का पहला पहली बार प्रयोग किया गया था. लेकिन इस प्रयोग को प्रभाव शाली ढंग से करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स उस बिंदु के लिए पर्याप्त उन्नत नहीं थी. एक सफल टेलीविजन प्रसारण प्रणाली की तरह कुछ भी करने से पहले इसे 30 साल बीत गए. लेकिन फिर भी यह 1935 तक नियमित तरह से काली और सफेद प्रसारण से बाहर नहीं था. इनमें केवल 108 लाइने प्रति फ्रेम थी.

1950 तक संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में 6 मिलियन टीवी थे और यह प्रसारण में भारी उछाल की शुरुआत थी.

कलर टीवी का विकास 1897 की शुरुआत में में हुआ था. लेकिन फिर भी यह 1928 तक मार्केट में नहीं आया था.
पहला राष्ट्रीय प्रसारण 1 जनवरी को हुआ और तब से प्रसारण मनोरंजन की नए युग की शुरुआत हो गई थी. यह केवल एक नए मोड की शुरुआत थी और यह 1965 तक नहीं था.

मौजूदा तकनीक में बड़े बॉक्स के टीवी शामिल थे जो अंतिम उपभोक्ता के लिए अत्यधिक महंगे थे. यहां 1980 तक टीवी के अधिकांश सभी रंग तैयार थे.

तब तक बाजारों में ब्लैक एंड वाइट टीवी की कीमतें गिर गई थी. विशेष रुप से कम पावर सिस्टम जैसे सुरक्षा क्या और छोटे छोटे पोर्टेबल सेट की तरह ही इसका परिणाम था.

80 के दशक के बाद इसकी छवियों को प्रसारित करने का एक सामान्य तरीका बन गया था. जहां से वह दुनिया भर में फैल गया था. 
वह 5 साल के भीतर दुनिया के हर देश में प्रसारण प्रारूप के रूप में यह प्रचलित हो गया था.


color TV divas kaise manaye

color TV divas प्रौद्योगिकी के अद्भुत आगमन के जश्न मनाने का दिन माना जाता है. क्योंकि इसी दिन से रंगों की एक नई दुनिया में हमने प्रवेश किया था. 
फिल्मों को भी उनके मूल प्रारूप में इतना प्यार किया जाता है कि उन्हें अब रंगीकरण प्रक्रियाओं के माध्यम से एक नया रूप प्रतीत होता है.

color TV divas पर आप कुछ अच्छे और नवीनतम तो देख कर मना सकते हैं.
तो जल्दी से, कुछ पॉपकॉर्न अपने हाथ में लेकर दोस्तों और परिवार के साथ में बैठ जाइए और अलग-अलग युगों की फिल्मों को देखने की एक श्रृंखला बनाइए.
लेकिन बस यह ध्यान रखें कि रंगीन टीवी कैसे आया था.

आशा है कि आप सभी परिवार और दोस्तों के साथ इस दिवस को एक समारोह की तरह और पूरी जानकारी के साथ मिलकर मनाएंगे!


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

Worth-to-Share