Press "Enter" to skip to content

25 July: carousel divas | कॅरोजेल दिवस

carousel divas : दोस्तो, आज हम कॅरोजेल दिवस के बारे में जानकारी लेंगे. जब भी हम कॅरोजेल दिवस अर्थात हिंडोला दिवस के बारे में सोचते हैं. तो हमारे आंखों के सामने सुंदर रूप से एक डिजाइन किया गया बहुत सारे घोड़े जिसे जुड़े होते हैं. ऐसे खिलौने का रूप आता है. इसमें सुनहरे धातु के खंभे भी होते हैं, जो केंद्र में जुड़े होते हैं. और यह सब किसी सर्कस का हिस्सा होता है. 

1800 के दशक से हिंडोला बच्चों को रिझाने वाला एक बहुत अच्छा और बड़ा माध्यम है. क्योंकि उस पर बैठकर बच्चे गोल गोल घूमते हैं और खुश होकर हंसते हैं. यह American history का बहुत बड़ा हिस्सा रहा है.

जबकि कॅरोजेल के लिए कई डिजाइन होते हैं. कॅरोजेल का विचार सदियों में अमेरिका से पहले अस्तित्व में रहा था. कॅरोजेल का ठीक-ठीक इतिहास निरीक्षण करने के लिए ही कॅरोजेल दिवस मनाया जाता है.


carousel divas ke bare me adhik jankari

कॅरोजेल दिवस का उद्देश्य अविश्वसनीय, अविष्कार का सम्मान करना ही है. किसी भी सर्कस में कॅरोजेल सबसे पहले पहचानने योग्य ग्राउंड में लगा हुआ बड़ा खिलौना होता है. साथ ही मनोरंजन पार्क की सवारी में इसका अस्तित्व बहुत बड़ा होता है. कॅरोजेल को Mary go round के रूप में भी जाना जाता है. यह एक प्रकार की मनोरंजन वाली सवारी होती है. जिसमें एक गोलाकार का बहुत बड़ा मंच होता है, जो घूमते रहता है.

सवारों के बैठने के लिए सीटें भी होती है. परंपरागत रूप से यह सीटें लकड़ी के घोड़े या फिर अन्य जानवर की होती है. हमने दुनिया भर में अलग-अलग सर्कस और मेलों में अलग-अलग थीम वाली कॅरोजेल देखे हैं. और वे चाहे दिखने में कैसे भी हो उन पर किसी भी जानवर की आकृतियां हो. लेकिन बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी को यह कॅरोजेल अपनी तरफ आकर्षित करता है.


carousel divas ka itihas

कॅरोजेल दिवस के इतिहास को समझने के लिए हमें कॅरोजेल अर्थात हिंडोला के इतिहास को समझने की आवश्यकता होगी.
कॅरोजेल के पहले वैचारिक डिजाइन को 500 ई में बीजान्टिन साम्राज्य में बनाया था. जिसमें टोकरी, सवारियों को ले जाने के लिए एक केंद्रीय ध्रुव बनाकर उसका चित्रण किया गया था.
एक ऐसी गतिविधि थी जिसके लिए उत्कृष्ट घोड़े सवारी के कौशल की आवश्यकता थी. वास्तव में ग्रोसेल और यह शब्द garosello इस शब्द से आया हुआ है. जिसका अर्थ है carosella यह एक spanish शब्द है. और इसका अर्थ होता है छोटी लड़ाई. 12 वीं शताब्दी के दौरान अरब और तुर्की घुड़सवारी की द्वारा खेले जाने वाले युद्ध की तैयारी के अभ्यास और खेलों के विवरण के रूप में क्रूसेडरों द्वारा इसका अभ्यास किया गया था.

18 वी शताब्दी की शुरुआत में इंग्लैंड और मध्य यूरोप के कई विभिन्न नस अभाव और मेलों में केरोसिन बनाए जाते थे, और संचालित किए जाते थे. हालांकि 1840 के दशक तक संयुक्त राज्य अमेरिका में हेसेविले, ओहियो में पहला मेरी गो राउंड बनाया गया था. लेकिन दुर्भाग्य से उनके इस डिजाइन को पेटेंट नहीं किया गया था. इसलिए उन्हें आधिकारिक तौर पर निर्माता के रूप में शानदार निर्माता के रूप में श्रेय उसे नहीं दिया गया था.


carousel divas kaise manaye

कॅरोजेल दिवस मनाने के लिए सबसे बेहतरीन और कारीगर तरीका यही है कि आप किसी भी निजी सर्कस में जाकर ऐसे ही किसी कॅरोजेल का मजा लें. संयुक्त राज्य अमेरिका में सैकड़ों पंजीकृत कॅरोजेल है. आप अपने पड़ोस की किसी भी मेले में इसकी खोज कर सकते हैं.

इसके अलावा अगर मेलों में या मनोरंजन पार्क में अगर आप इन्हें खोजने में रुचि रखते हैं, तो आप अपने स्थानीय निदेशकों के संपर्क में रहे, और उन्हें उनके बारे में पूछें. साथ ही आप अपने बच्चों को किसी स्थानीय मेले में भी ले जा सकते हैं और उन्हें कॅरोजेल की सवारी करा सकते हैं. किसी भी मेले या फिर सर्कस में जाकर आप खुद भी इस का मजा लूट सकते हैं. हमें आशा है कि आज का कॅरोजेल दिवस के कारण आपको नए मजेदार खेल के बारे में जानकारी मिली होगी. साथ ही इसे खेलने के लिए आप उत्सुक हुए होंगे, है ना?


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

Worth-to-Share

Be First to Comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *