6 Jan 2021: bean day | बिन दिवस

bean day : दोस्तों, आज 6 जनवरी के दिन हम bean day | बिन दिवस मनाने जा रहे हैं. आपको पता होगा कि बिन्स को दुनिया भर में कई सारे अच्छे कारणों के लिए माना जाता है. इन फलियों को हर रोज के आम भोजन में एक बहुत ही बड़ी पूर्ण भोजन माना जाता है. इनमें कई तरह के फाइबर, प्रोटीन एवं बहुत सारे जीवनसत्व भी होते हैं.

और साथ ही ये स्वाद में बहुत ही स्वादिष्ट भी होते हैं. और इसी वजह से आपको पता होना चाहिए कि चिली कॉर्न में बेक्ड रूप में इन्हें एक बहुत ही अच्छे घटक के रूप में खाया जा सकता है. लेकिन साथ में उनके अनुप्रयोग के लिए कोई समय नहीं देती है.

लेकिन साथ ही आपको पता होगा कि जापान में लाल बींस के रूप में आप इन्हें विभिन्न चीनी मिठाइयों की तरह शामिल कर सकते हैं. लेकिन साथ ही विभिन्न तरह के साथ एवं मसालों में दक्षिण एशिया में भारत जाने वाले मसालों का उपयोग किया जाता है.

लेकिन आपको पता होगा कि टोफू भी सिर्फ दिखाने के लिए इसके विभिन्न व्यंजनों में उपयोग के लिए किया जाता है. लेकिन इनमें बहुमुखी और आवश्यक फलियां होती है. तो आपको इस तरह की कई सारी मिर्ची एवं जापानी मिठाइयों की बात बोली कटोरी में देना चाहिए ताकि इनमे कई फलियां शामिल हो.

bean day ka itihas

बिन दिवस (bean day) पर आपको इसके इतिहास के बारे में भी जानना चाहिए. इस दिवस पर आपको पता होगा कि ग्रेगर मेंडल की मृत्यु को याद किया जाता है. इन्होंने ही तो अनुवांशिक के गुणों में प्रजनन के दौरान मटर के पौधों के ऊपर प्रयोग किए थे. और साथ ही आधुनिक आनुवंशिकी को एक नया आयाम देते हुए अपने जीवन को आधार बनाया था.

हम पा सकते हैं और इस बात से हमें प्रतीत होता है पाउला बोवेन इस बिन्स दिवस के निर्माता है. तो आपको पता चल गया होगा कि बिन दिवस को आमतौर पर मनाए जाने वाले समय के आसपास दूसरे की छुट्टियां नहीं होती है. साथ ही इस बिन दिवस को मनाने के लिए बिन के लिए सम्मानित करने का आपको दिन जरूरी होता है.

और इसी की वजह से आपको कोई प्रतिक्रिया से परिचित हो इन पर कोई संदेह नहीं करना चाहिए. इसी वजह से इन बींस को दुनिया भर में भोजन के कई व्यंजनों के बजाय और भी अधिक स्वस्थ और आम माना जाता है. लेकिन इस तरह से आपको पता चल गया होगा किसने उसको लगे नया के आगे पीछे भी समर्पित होता है.

bean day kaise manaye

बिन दिवस (bean day) पर हमें इस्तेमाल कैसे मनाना है इसके बारे में अधिक जानकारी लेनी चाहिए. किसी को चाहते हैं आपको हम बताना चाहते हैं कि यह तो बहुत ही बहुमुखी खाद्य पदार्थों में से ही खाता है. क्योंकि बिन को हम सभी के भोजन में शामिल करना जरूरी होता है. अगर आप अपने दिन की शुरुआत नहीं की पारंपारिक तरीके से पूर्ण होना अच्छा सा नाश्ता करें. आप अपने उस नाश्ते में कोई अलग अलग तरीके की फलियों को शामिल कर सकते हैं.

और साथ ही इसमें दोपहर के भोजन में और रात के खाने में  फलियों से बना हुआ भोजन जैसे चावल और सफेद बिन का सूप भी शामिल कर सकते हैं. या फिर अगर आपको पसंद हो तो आप उत्तर भारतीय तरीके का राजमा मैं अपने फलिया के भोजन में ले सकते हैं. और हमें आपको बताना एक काम है कि आपकी रचनात्मकता यूं ही उत्तेजित रहनी चाहिए.

इसी वजह से हम इस बात से आप को प्रोत्साहित करना चाहते हैं कि आप हमेशा बींस को जरूर भोजन में शामिल करें. और अगर आप किसी दक्षिण भारतीय राज्य में रहते हैं तो आप भोजन में नारियल का दूध और कद्दू भी शामिल कर सकते हैं. साथ ही आपको इस तरह के फलियों का उपयोग आप फलियों को पानी में रात भर भिगो कर खा सकते हैं.

और साथ ही आप एक छोटे से कढ़ाई में तेल गर्म करते हुए इसमें नारियल के दूध के साथ कद्दू और बींस को भी पका सकते हैं. और उसके बाद उन पर सॉस का छिड़कावा करते हुए इस का लुफ्त उठा सकते हैं. इसी के साथ अगर आपको इस दिवस को सोशल मीडिया पर मनाना है तो आप इसे #beanday को टैग करते हुए मना सकते हैं.


हमारा यह बिन दिवस (bean day) पर आधारित लेख अगर आपको पसंद आया हो और साथ ही आपने फलियां खाते हुए इस दिवस को मनाने का निश्चय कर लिया हो, तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करते हुए जरूर बताएं. 


इस तरह के विविध लेखों के अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज ssoftgroup लाइक करे.


WhatsApp पर दैनिक अपडेट मिलने के लिए यहाँ Join WhatsApp पर क्लिक करे

bean day

Leave a Comment